रेल सुविधाओं में वृद्धि की जाय : मुख्यमंत्री

Press Release

मुख्यमंत्री श्री अर्जुन मुण्डा ने माननीय रेल मंत्री, भारत सरकार, श्री पवन कुमार बंसल से अनुरोध किया है कि वित्तीय वर्ष 2013-14 के रेलवे बजट में झारखण्ड की जनता को अपेक्षाओं के अनुरूप रेल सुविधाओं में वृद्धि की जाय। इस संबंध में उन्होंने पत्र द्वारा अनुरोध किया है कि राज्य की द्वितीय राजधानी दुमका के महत्व को ध्यानगत रखते हुए दुमका से नर्इ दिल्ली, राँची और हावड़ा के लिए सीधी नर्इ ट्रेन सेवाएं शुरू की जाएं। उन्होंने लौहनगरी जमशेदपुर से राँची, लखनऊ होते हुए देहरादून के लिए नर्इ ट्रेन सेवा शुरू करने का भी आग्रह किया है। साथ ही राउरकेला होते हुए बंगलौर तथा हैदराबाद के लिए नर्इ ट्रेन, जमशेदपुर से चेन्नर्इ के लिए दैनिक ट्रेन, राँची से भोपाल-इंदौर रेल सेवा सहित राँची से त्रिवेन्द्रम के लिए नर्इ ट्रेन सेवा, नर्इ दिल्ली-राँची दुरन्तों ट्रेन, गिरिडीह से कलकत्ता के लिए ट्रेन एवं नोवामुण्डी (बड़विल) से हावड़ा के लिए ट्रेन दिए जाने का भी अनुरोध किया है ।

मुख्यमंत्री ने रेलवे के पास बड़े अस्पतालों की अनुपलब्धता, सुदूरवर्ती क्षेत्रों में चिकित्सा व्यवस्था एवं ट्रामा सेन्टर के अभाव को गम्भीरता से लेते हुए राँची, धनबाद, चक्रधरपुर, देवघर, सीनी में सौ शैयया वाले अस्पताल एवं ट्रामा सेन्टर हेतु अनुरोध किया है। राँची, टाटानगर, धनबाद, जसीडीह, बरकाकाना जैसी भीड़ वाली स्टेशनों पर रेल मानक के समतुल्य यात्री सुविधा उपलब्ध कराने की मांग उन्होंने रखी है।

उन्होंने अपने पत्र के माध्यम से कर्इ ट्रेनों के फेरों में वृद्धि की भी बात कही है। राँची-नर्इदिल्ली राजधानी प्रतिदिन, राँची-मुम्बर्इ (एल0टी0टी0 सुपरफास्ट एक्सप्रेस) दैनिक, हटिया-यशवंतपुर एक्सप्रेस को प्रतिदिन, राँची-अलीपुरद्वार (गुवाहाटी एक्सप्रेस) को सप्ताह में 02 दिनों के बदले कम से कम पांच दिन, राँची से अजमेर शरीफ जाने वाली ट्रेन को सप्ताह में कम से कम पांच दिन साथ ही हटिया-पूणे एक्सप्रेस सप्ताह में कम से कम पांच दिन चलाए जाने तथा पुरूषोत्तम एक्सप्रेस को अजमेर तक विस्तारित करने की मांग की है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य माल भाड़े के मद में देश में सर्वाधिक राजस्व देता है, परन्तु रोजगार सृजन की दिशा में रेलवे द्वारा कोर्इ ठोस कदम नहीं उठाया गया है। इसलिए राज्य के सीनी, बरकाकाना , गोमा, जसीडीह, हटिया, टाटानगर में रोजगार सृजन के लिए विभिन्न ट्रेडों (तकनीक) के केन्द्र खोले जाए एवं यहां के युवकयुवतियों को अल्पकालीनदीर्घकालीन प्रशिक्षण देकर रोजगारपरक बनाया जाय। झारखण्ड के सीनी रेलवे कारखाने को विस्तारीकरण करते हुए कोच एवं वैगन निर्माण कार्य प्रारम्भ कराया जाय। गिरिडीह-पारसनाथ-मधुवन रेलचतरा से टोरी रेल लार्इनकोडरमा-हजारीबाग-गढ़वा रोड रांची से कान्ड्रा-टाटानगरपीरपैंती-गोडडा एवं हंसडीहा-जसीडीह रेलवे लार्इन के निर्माण के लिए कार्रवार्इ की जाय। झारखण्ड में विश्व प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों (धार्मिक एवं प्रकृति ) यथा-बैधनाथ देवघर, पाश्र्वनाथ (पारसनाथ)-सहित प्रकृति पर्यटन स्थल समृद्ध करने से रेल राजस्व में अभिवृद्धि होगी। इसलिए वित्तीय वर्ष 2013-14 में विशेष रूप से देवघर एवं पाश्र्वनाथ (पारसनाथ)-जो जैन धर्मालमिबयों का प्रसिद्ध धर्म स्थल है, को प्राथमिकता के आधार पर संबंद्र्धित किया जाय। पूर्वी एवं पशिचमी सिंहभूम जिलों के लिए राज्य सरकार द्वारा भेजे गये रेलवे ओवर बि्रज के प्रस्तावों को तत्काल स्वकृति किया जाय।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *