पूर्वी सिंहभूम के ज्वालकांटा पावर सब स्टेशन का आनलार्इन उदघाटन करते हुए मुख्यमंत्री

Press Release

राँची, दिनांक 07,जुलार्इ -2012

पूर्वी सिंहभूम के ज्वालकांटा पावर सब स्टेशन का आनलार्इन उदघाटन करते हुए मुख्यमंत्री ने राज्य के विकास के सन्दर्भ में अपनी चिन्ता को दुहराया। उन्होंने कहा कि सभी विभाग और विशेषकर आम जीवन से जुड़े लोग गाँव की अपेक्षा की कसौटी पर खरा उतरने, गाँव की चिंता को सर्वोच्च प्राथमिकता दें। गाँव की प्रगति ही राज्य और देश के बहुआयामी प्रगति का मानक है। इसलिए कार्य समयबद्ध और जिम्मेवारी आधारित हो तथा विकास की इस निरंतर यात्रा में सभी सहभागी और सâदय बनें।

पच्चास गाँव को अबाध आपूर्ति करने वाली राज्य विधुत बोर्ड के छ: करोड़ के लागत से निर्मित इस सब स्टेशन की क्षमता 10 डट। है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि यह केन्द्र न केवल गाँव को अबाध बिजली देगा अपितु Ñषि, सिंचार्इ, कुटीर उधोग, साथ ही रेशम विकास के कार्यों में सहायक सिद्ध होगा। उन्होंने इस अवसर पर उपसिथत राज्य सभा सांसद श्री प्रदीप बालमुचु, घाटशिला विधायक श्री रामदास सोरेन, बहरागोड़ा विधायक श्री विधुत वरण महतो, त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि, जिला प्रशासन के पदाधिकारीगण, विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों तथा गाँवों से आए भार्इ-बहनों को आनलार्इन धन्यवाद दिया।
राज्य में वर्षा की कमी से उत्पन्न सिथति को गम्भीर चिंता का विषय बताते हुए इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने Ñषि के वैकलिपक उत्पादन व्यवस्था के प्रति सभी पक्षों को सचेष्ट किया। किसान अन्नदाता है। सारी जिवन आवश्यक वस्तुओं का वह उत्पादक है। उसकी समस्याएँ देश और राज्य के लिए सर्वाधिक चिन्ता का विषय है। Ñषि उत्पाद राष्ट्रीय आर्थिक सुदृढ़ता का आधार है। अत: मैंने खाद की कीमत में हो रही अबाध वृद्धि पर चिंता व्यक्त करते हुए इसे नियंत्रित करने एवं सुनिशिचत आपूर्ति के प्रसंग में अभी दो दिन पूर्व प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है तथा इसके पूर्व भी आपूर्ति सुनिशिचत करने से सम्बनिधत पत्र लिखा है। मेरी प्राथमिकता है, बिजली, पानी, सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य और सुनिशिचत रोजगार। इसमें बिजली आपूर्ति एक बहुत बड़ा साधन है। परन्तु संचरण व्यवस्था में कतिपय कठिनाइयों के कारण उत्पादन, वितरण, नेटवर्क सुनिशिचत होने में कुछ कठिनार्इ उत्पन्न हो जाती है। कभी-कभी तो 200-250 ड बिजली सरप्लस रहने पर भी गाँव तक चैनल के बिना पहुँच नहीं हो पाती, यह हमारी चिंता का विषय है।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि मैंने ग्रामीणों की आँखों में Ñषि, उत्पादन, देशज उधोग, रोजगार की एक तृष्णा देखी है। बिजली आपूर्ति उस दिशा में एक महत्वपूर्ण प्रयास सिद्ध होगा। इस अवसर पर माननीय सांसद एवं विधायकों ने क्षेत्रीय समस्याओं की ओर जहाँ मुख्यमंत्री का ध्यान आÑष्ट कराया वहीं उनके द्वारा की जा रही कार्रवार्इ एवं विकास के प्रयास की सराहना की।

इस अवसर पर झारखण्ड राज्य विधुत बोर्ड के अध्यक्ष श्री एस0एन0वर्मा, कार्यक्रम स्थल पर जमशेदपुर उपायुक्त श्रीमती हिमानी पाण्डेय, आरक्षी अधीक्षक श्री अखिलेश कुमार झा, समेत अनेक गणमान्य लोग उपसिथत थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *