Meeting on sustainable development of agriculture held

Top Stories

The Planning Commission member  Dr K Kasturirangan today underlined the need to make available all information connected with agriculture,technology, meteorology, agro engineering and new scientific discoveries to farmers for sustainable development.

The technical expertise of the Indian Council of Agriculture Reasearch must be used in this regard,said Kasturirangan.”The priorities of the five-six regions of Jharkhand should be set so that fundamental change can come about”,he said while presiding over a high level meeting held at Hotel Raddison Blu,Ranchi today.

A press released by the public relations department in Hindi said as follows;

डाŒकेŒ कस्तुरीरंगन ने धारित विकास (Sustainable Devlopment ) अवयवों को रेखांकित करते हुए कहा कि जैव विविधता का संरक्षण सबसे बड़ी जरूरत है। उन्होंने कहा कि कृषि क्षेत्र की सारी सूचनाएं यथा तकनीक की जानकारी मौसम पूर्वानूमान सहित कृषि अभियांत्रिक की नर्इ खोजें इत्यादि किसानों तक पहुँचनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) जैसी राष्ट्रीय संस्थाओं की विषेषज्ञता का इस राज्य में उपयोग होना चाहिए। उन्होंने कहा कि झारखण्ड में कृषि के क्षेत्र में पाँच या छ: प्रमुख क्षेत्रों की प्राथमिकता तय की जानी चाहिए जिनसे कृषि प्रक्ष्ेात्र में आमूल परिवर्Ÿान हो सके। डाŒकस्तुरीरगंन आज स्थानीय होटल रेडिसन ब्लू के सभा कक्ष में आयोजित उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

महामहिम राज्यपाल के सलाहकार श्री मधुकर गुप्ता एवं श्री के Œविजय कुमार ने राज्य मे योजनाओं के कार्यान्वयन पर प्रकाष डाला।

मुख्य सचिव श्री आरŒएसŒषर्मा ने विभिन्न विभागों के कार्यक्रमों को रेखांकित करने के क्रम में कहा कि राज्य सरकार विभिन्न विभागों के खाली पदों को भरे जाने की कार्रवार्इ कर रही है ताकि विभिन्न स्तरों पर क्षमता वृ़द्धि की जा सके । उन्होंने कहा कि राज्य की कर प्रणाली को सुगम बनाया जा रहा है एवं सूचना संप्रेषण की प्रणाली को सुदढ़ बनाया जा रहा है।

उक्त बैठक में 2012-13 की उपलबिधयों की समीक्षा की गर्इ साथ ही वर्ष 2013-14 की र्वार्षिक योजना फलैग्षिप योजनाओं की पावर प्रजेंटेषन के माध्यम से विकास आयुक्त श्री एŒकेŒ सरकार ने रेखांकित किया।

उक्त बैठक में योजना आयोग कि सलाहकार श्रीमती निधि खरे,एवं श्री जेŒपीŒमिश्रा निदेषक श्री बीŒकेŒपाण्डेय एवं श्री एनŒके संताषी एवं डिप्टी एडवाइजर श्रीमती पूनम श्रीवास्तव सहित सभि विभागों के प्रधान सचिवसचिव उपसिथत थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.