खेल एक ऐसी विधा है जिससे मनुश्यअपने तन व मन को सुदृढ़ रख अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकता हैं

Jharkhand News Stories

20-July- 2012

खेल एक ऐसी विधा है जिससे मनुश्यअपने तन व मन को सुदृढ़ रख अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकता हैं क्योंकि यह षरीर ही वह साधन है जिसके सहारे हम अपने परिवार, समाज व देष की सेवा-सुश्रुसा के साथ-साथ अपनी रक्षा कर सकते हैं। इसके साथ ही खेलने से हममें एकता व टीम भावना का उदभाव होता है उक्त बातें बिरसा मुण्डा इन्डोर स्टेडियम में अन्तर वाहिनी बैडमिंटन प्रतियोगिता परिचालनिक रेन्ज चार्इबासा के भव्य उदघाटन समारोह में श्री के0 श्रीनिवासन, भा0 प्र0 सेवा, उपायुक्त, पशिचमी सिंहभूम, चार्इबासा ने कही। उन्होनें सीआरपीएफ की भूमिका की सराहना करते हुए यह उदघोशित किया कि यह बल हर क्षेत्र में निपुण है चाहे वह खेल का मैदान
हो या परिचालनिक गतिविधियांंंं। हर कार्य में सीआरपीएफ आगे रहने का प्रयास करती है। कार्यक्रम के स्वागत उदघोश में 197 वाहिनी के कमाण्डेन्ट श्री नदीम अहमद समदानी द्वारा यह अवगत कराया गया कि विगत वशाेर्ं की भंांंति इस वर्श भी चार्इबासा परिचालनिक रेन्ज की टीमें, क्रमष: 7,60,94,174,193,196,197 एंव 209 कोबरा प्रतियोगिता में भाग ले रही हैं। हमारा प्रयास यह होता है कि हम अपने मन एवं षरीर को स्वस्थ रखकर बडे लक्ष्य हासिल करें क्याेंकि केरिपुबल का उददेष्य देष में अमन एवं षानित को कायम रखना है जो कि वर्तमान परिदृश्य में आसान नहीं है।

इसलिए हमारे कार्यषैली में खेल की अहम भूमिका होती है। उन्हाेंने विस्तार से बताया कि जब हम खेल ख्ेालते हंै तो तनाव हमसे दूर हो जाता है तथा हमारे मन मसितश्क में स्फूर्ति आ जाती है। ज्ञातव्य हो कि उक्त खेल की मेजबानी 197 वाहिनी केरिपुबल कर रही है। इस अवसर पर कमाण्डेन्ट श्री समदानी द्वारा मुख्य अतिथि महोदय का आभार प्रकट किया गया कि उन्हाेंने खिलाडि़यों के उत्साहवर्धन हेतु अपना बहुमूल्य समय निकाला और उनके बीच उपसिथत हुए। उदघाटन समारोह में श्री राकेष षुक्ला,़िद्व0क0अधि0 -174 वाहिनी केरिपुबल, श्री अषोक जोषी ,सेक्रेटरी, पषिचमी सिंहभूम बैडमिंटन एसोसियेसन, चार्इबासा तथा अन्य गणमान्य अतिथियों के साथ सामान्य जनता की भी उपसिथति रही। खेलों का संचालन श्री मुन्ना सिंह, उप0कमा0, 197 वाहिनी, केरिपुबल की नजदीकी निगरानी में किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *