Housing scam culprits go scot free

Stories

A housing scam has surfaced in Maoiist Infested Chatra district,thanks to the citizen forum –Zila Nagrik Morcha-led by its president Laxmi Kant Shukla.

In a report,Shukla claims that a large number of the government houses were allocated to the councilors of the Chatra Municipality.Here is his report:

चतरा में आवास घोटाले के विरूद्ध एक दिवसीय धरना 7 जनवरी 2013 को नागरिक मोर्चा चतरा और मासस के बैनर के तले हुआ यह कार्यक्रम में चतरा के आवास घोटाले मामले को उठाया गया। जानकारी हो कि झारखण्ड के विधानसभा में हर विधायक, मंत्री को एक एक जिला कि जिम्मेवारी दी गयी है जिसमें झारखण्ड के मुख्यमंत्री अर्जन मुण्डा के हिस्से में चतरा जिला है जहां आवास घोटाले हुआ है।

जिसमें एक योजना एचएसडीपी (इंटीग्रेटेड हाउसिंग एंड स्लम डवलपमेंट प्रोग्राम) केंद्र प्रायोजित योजना है। इस योजना के तहत चतरा में स्लम बस्ती के विकास के लिए 19 करोड़ रूपए उपलब्ध कराए गए थे। यह योजना भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गर्इ। आर्इएचएसडीपी से गरीबों को मिलने वाले आवास अमीरों को बेच दिए गए। आवासों के आवंटन में भारी लूट हुर्इ। वहां के आवास वार्ड पार्षद चयन समिति की मिली भगत से अपने रिष्तेदारों को आवास बांट दिए। आवासों के आवंटन में भारी लूट हुर्इ। एक-एक आवास 30 से
40 हजार रूपए में अमीरों को बेच दिए गए। इसके कारण शहर में एक भी सलम बस्ती का विकास नहीं हो पाया।

यह आवास योजना में शहर के स्लम बस्ती के विकास के लिए 900 आवास बनाए जाने थे इनमें से करीब 750 आवास का निर्माण विभिन्न वार्डो में जहां- तहां कराया गया है इसमें से करीब 375 आवास डीपीआर के बाहर से ले लिया गया है सभी आवास शहर के 11 वार्ड में बनाए जा रहे है इसके कारण शहर में एक भी स्लम बस्ती का विकास नहीं हो पाया है।

आवासों के आवंटन में मुख्य रूप गड़बड़ी-:

  1.  नगर विकास विभाग ने स्लम बस्ती आवास योजना के विकास के लिए डीपीआर तैयार करने का निर्दोष दिया था। यह रिर्पोट चतरा नगर जो डीपीआर तैयार कराया गया है उसके आधार पर भी आवासों का आवंटन नहीं हुआ। आधे से अधिक लाभुकों का चयन डीपीआर से बाहर से कर दिया गया।
  2. डीपीआर ने आवास निर्माण के लिए माडल नक्सा का प्रावधान किया गया है इस नक्से से एक भी आवास नहीं बना।
  3. गरीबों के नाम पर अमीरों को आवास दिया गया। गरीबों के इस पैसे में अमीर अपने पैसे मिलाकर भव्य इमारत तैयार कर लिए।
  4. भारी संख्या में आवास वार्ड पार्षदों ने अपने रिष्तेदारों को आवंटित कर दिया।
  5. कर्इ पुरानी आवास को दिखाकर भी अमीर तबके के लोग गरीबों के पैसे हड़प लिए।

इस कार्यक्रम के बाद चतरा के नागरिक मोर्चा ने विधानसभा के जिला पंचायत एवं आवास विकास समिति के एवं निरसा के विधायक व मासस नेता अरूप चटर्जी, को लिखित दस्तावेज दिये। अरूप चटर्जी ने मोर्चा में आये तामाम लोगो का कहा कि इस आवास घोटाले की जांच होगी और घोटाला करने वाले को सजा भी मिलेगी हमारी समिति वहां के डी सी से बात करेगे। नागरिक मोर्चा ने राज्यपाल को भी यह पत्र दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *