Governor Ahmad inspects BDO’s office at Ratu

Top Stories
Governor Syed Ahmad
Representational Pic

Governor Syed Ahmad today visited the Block Development Officer’s office at Ratu in Ranchi and inspected his office.

This is for the first time any Governor had inspected the functioning of the government office at the block level.He was accompanied by his Principal Secretary NN Sinha.

A press release issued by the Raj Bhawan gave details of the Governor Ahmad’s inspection.The details are as follows:

महामहिम राज्यपाल डा0 सैयद अहमद ने रातू प्रखण्ड कार्यालय में अपने कार्य से अनुपसिथत रहनेवाले पदाधिकारियों एवं कर्मियों पर सख्त कार्रवार्इ करने का निदेष दिया है। उन्होंने रातू प्रखण्ड के औचक निरीक्षण के क्रम में कार्य संस्Ñति की सिथति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि बेहतर कार्य संस्Ñति बनाने हेतु प्रत्येक पदाधिकारी एवं कर्मी पूरी समर्पण व निष्ठा के साथ कार्य करें, वे अपने दायित्व से भागे नहीं बलिक उनका निर्वहन पूर्ण र्इमानदारी से करें। उन्होंने कहा कि इसमें किसी भी प्रकार की षिथिलता एवं कोताही बरतने पर मैं माफ नहीं करूँगा। विदित हो कि महामहिम राज्यपाल आज विभिन्न कार्यालय द्वारा किये जा रहे कार्यों का भौतिक सत्यपान करने हेतु प्रधान सचिव श्री एन.एन. सिन्हा को औचक निरिक्षण पर अपने जाने की मंषा से अवगत कराया। इस क्रम में वे रातू प्रखण्ड सिथत विभिन्न कार्यालयों का औचक निरिक्षण करने हेतु पहुँचे।

सर्वप्रथम महामहिम ने रातू प्रखण्ड कार्यालय का निरिक्षण किया। निरीक्षण के क्रम में प्रखण्ड विकास पदाधिकारी अनुपसिथत पाये गये। उन्होंने कार्यालय से उपसिथति पंजिका भी मांगी और जाँच की कि कौन-कौन से पदाधिकारीकर्मी उपसिथत हैं और कौन अनुपसिथत? महामहिम राज्यपाल ने अंचल कार्यालय का भी निरिक्षण किया। इस क्रम में अंचलाधिकारी अनुपसिथत पाये गये। साथ ही अंचल कार्यालय में अधिकतर कमरे बंद पड़े थे। उन्होंने प्रखण्ड एवं अंचल कार्यालय में कार्य करने यथा- पंजिका जहाँ-तहाँ रखने, गंदगी आदि पर भी नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने कर्मियों की उपसिथति पर अत्यन्त नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि कर्मी कैसे बिना आवेदन के अनुपसिथत हैं?

महामहिम राज्यपाल ने कहा कि पदाधिकारी एवं कर्मी 12 बजे तक भी कार्यालय नहीं पहुँचे हैं, यह क्या दर्षाता है? यही यहाँ की कार्य संस्Ñति है? बाहर में आम जनता अपनी पीड़ा व फरियाद लिये बैठी हैं, यह उम्मीद लिए कि इन कार्यालयों से सम्बद्ध व्यकित उनकी समस्या का निदान करेंगे और यहां के अधिकारी व कर्मचारी हैं, जो गायब हैं। कार्य संस्Ñति नाम की कोर्इ चीज नहीं है, गैर जिम्मेदाराना हरकत दर्षा रहे हैं। उन्होंने कार्यालय में बिजली के तार व्यवसिथत ढ़ंग से नहीं रहने पर कहा कि ये तार झूल रहे हैं, किसी को करंट लग जायेगी तो कौन जिम्मेवार होगा? उन्होंने कार्यालय के रख-रखाव पर नाराजगी व्यक्त की तथा बेहतर रख-रखाव हेतु निदेष दिया।

महामहिम औचक निरीक्षण के क्रम में रातू थाना भी देखने गये। रातू थाना के प्रभारी की खोज की, वे समय पर नहीं थे। हालांकि वे बाद में पहुँचे। उन्होंने विलम्ब का कारण बताया कि वे कोर्ट जा रहे थे, सूचना प्राप्त होने पर रास्ते से ही लौट गये। उन्होंने थाने परिसर में लगी जर्जर गाडि़यों के संदर्भ में भी थाना प्रभारी से पूछताछ की।
औचक निरीक्षण के क्रम में महामहिम उस परिसर सिथत प्रज्ञा केन्द्र भी गये और प्रज्ञा केन्द्र द्वारा निर्गत किये जा रहे प्रमाण-पत्रों की जानकारी प्राप्त की तथा अधतन सिथति की विवरणी उपलब्ध कराने हेतु कहा।

महामहिम ने बाल विकास परियोजना कार्यालय का निरिक्षण करते हुए सी.डी.पी.ओ. से कहा कि कार्यालय में आप सामग्री इत्यादि इस प्रकार कूड़े-कचड़े की भांति रखती हैं? उन्होंने बाल विकास परियोजना पदाधिकारी से यह भी पृच्छा कि आप कितने वर्षों से पदस्थापित हैं? ये जानने के बाद कि तीन वर्षों से पदस्थापित हैं, महामहिम ने कहा कि आप तीन वर्षों से पदस्थापित हैं और कार्यालय की यह सिथति है, कागजात की ये सिथति है। इस अवसर पर आमलोगों ने भी महामहिम से अपनी पीड़ा बताते हुए कहा कि पदाधिकारी एवं कर्मचारी 12 बजे के पूर्व आते ही नहीं है और आने के तुरन्त बाद जिला कार्यालय जाने के नाम पर चले जाते हैं, इससे हमलोगों का काम नहीं हो पाता है। तदुपरांत महामहिम रातू चिकित्सा केन्द्र पहुँचे। निरीक्षण के क्रम में प्रभारी, चिकित्सा पदाधिकारी अनुपसिथत पाये गये। हालांकि बाद में वे चिकित्सा केन्द्र पहुँचे। महामहिम ने अस्पताल के लैब का भी निरीक्षण किया तथा लोगों को जाँच केन्द्र में सुलभ करार्इ जा रही सुविधा के संदर्भ में भी पृच्छा की। इस अवसर पर महामहिम ने कहा कि महंगे उपकरण को आप कूड़ा-कचड़ा की भांति रखे हुए हैं? उन्होंने मरीजों से पूछा कि स्वास्थ्य केन्द्र द्वारा दवा इत्यादि सुलभ करार्इ जा रही है या नहीं ?

महामहिम रातू उच्च विधालय भी गये। वहां के प्राचार्य ने अवगत करया कि विधार्थियों की परीक्षा कुछ दिन पूर्व ही समाप्त हुर्इ है, अभी कापी जाँचने का कार्य चल रहा है। महामहिम ने षिक्षकों एवं कर्मियों की उपसिथति पंजिका सुलभ कराने हेतु कहा। इस क्रम में एक कर्मी अनुपसिथत पाये गये, प्राचार्य द्वारा अवगत कराया गया कि उक्त कर्मी आज ही एक दुर्घटना में घायल हो गये हैं।

विदित हो कि राज्य में किसी भी राज्यपाल के द्वारा प्रखण्डअंचल कार्यालय के निरीक्षण की यह पहली घटना है। महामहिम ने कहा कि प्रखण्डअंचल कार्यालय विकास कार्य का पहला द्वार होता है वहां की सिथति इतनी खराब होगी तथा वहां के पदाधिकारी एवं कर्मी इतने गैर जिम्मेदार होंगें यह दु:ख की बात है। जिनके द्वारा विकास कार्यों का क्रियान्वयन होना है, वे ही कार्य से नदारत रहेंगें तो कैसे काम होगा ? महामहिम राज्यपाल ने कहा कि मैं कभी भी किसी भी कार्यालय का औचक निरीक्षण तथा विकास कार्यों का स्थल निरीक्षण कर सकता हूँ। अत: सभी सावधान हो जायें। अत: सभी समय पर कार्यालय आयें एवं ससमय कार्य का निष्पादन करें, क्योंकि दोषी पाये जाने पर मैं नहीं छोडूँगा। महामहिम राज्यपाल ने यह भी कहा कि जिस प्रकार आप अपने घर को स्वच्छ एवं साफ-सुथरा रखते हैं उसी प्रकार कार्यालय को भी स्वच्छ रखें। इससे कार्य सम्पादन बढि़या होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.