CP Singh exhorts scholars for “Ram Rajya”

Top Stories

The scholars have to come forward to guide the society for “Ram Rajya’ ( Read Good governance ),said former Speaker of Jharkhand Assembly CP Singh.

Singh today spoke in Varanasi.

A press release issued by his office in Hindi quotes him saying as follows:

पूर्व झारखंड विधानसभाध्यक्ष चंद्रेष्वर प्रसाद सिंह ने काषी में आज विद्वानों को रामराज्य की स्थापना के लिए कार्य करने की सलाह दी जिससे समाज में व्याप्त तमाम बुराइयों को दूर किया जा सकता है।

आज वाराणसी सिथत अखिल भारतीय धर्मसंघ षिक्षा मंडल में स्वामी करपात्री जी के जन्मोत्सव के कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में षामिल हुए पूर्व विधानसभाध्यक्ष सीपी सिंह ने कहा कि धर्म सम्राट श्री करपात्री महाराज जी गोहत्या बंदी और रामराज्य की स्थापना के लिए आजीवन संघर्श करते रहे लेकिन तमाम गांधीवादी और समाज के नेताओं ने इसे गंभीरता से नहीं लिया।

सिंह ने कहा कि देष के अनेक नेता अपने नाम के साथ गांधी षब्द को जोड.ने में रुचि रखते हैं और उसे जोड.कर राजनीतिक लाभ भी उठाते हैं लेकिन उन्हीं गांधी जी के गोहत्या बंदी के नारे को कहने में उन्हें संकोच होता है। इतना ही नहीं गोहत्या की बंदी की बात करने में उन्हें सांप्रदायिक घोशित हो जाने का भय भी लगा रहता है।

उन्होंने कहा कि आज देष के अधिकतर राजनीतिज्ञ और सामाजिक नेता सिर्फ वोट की राजनीति करते हैं और देषहित और समाज को एकसूत्र में बांधने से वास्तव में उन्हें कोर्इ सरोकार नहीं होता है।

पूर्व विधानसभाध्यक्ष ने जोर देकर कहा कि जिस तरह स्वामी करपात्री जी ने राम राज्य परिशद की स्थापना कर देष की राजनीति को राम राज्य के उददेष्य की प्रापित की ओर मोड.ने का प्रयास किया उसकी प्रासंगिकता भ्रश्टाचार और व्यभिचार युक्त वर्तमान समाज में बहुत अधिक बढ. गयी है। लेकिन खेद का विशय है कि अपने समय में स्वामी करपात्री जी जैसे युगद्रश्टा एवं महात्मा को भी अनेक लोगों के विरोध का सामना करना पड.ा।

उन्होंने जोर देकर कहा कि अब समय आ गया है कि लोग मिलजुलकर समाज में अच्छे इंसान बनाने के लिए काम करें और देष को रामराज्य की ओर ले जायें। उन्होंने कहा कि विद्वानों की समाज को दिषा दिखाने में अहम भूमिका है और विद्वानों को लक्ष्मी के लोभ से दूर रहकर सही अर्थों में ज्ञान का प्रचार प्रसार कर समाज को पुश्ट करना चाहिए।

इस कार्यक्रम में न्याय षास्त्र के विद्वान वषिश्ठ ति्रपाठी को एक लाख रुपये का पुरस्कार धर्मसंघ षिक्षा मंडल ने झारखंड के पूर्व विधानसभाध्यक्ष सी पी सिंह के हाथों दिलवाया।

धर्मसंघ षिक्षा मंडल के आचार्य श्री षंकरदेव चैतन्य महाराज और महासचिव जगजीतन पांडेय ने सीपी सिंह जी को स्मति चिहन और दुषाला देकर सम्मानित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.