Build houses for urban poor under Rajiv Awas Yojana quickly:Governor

Top Stories

Expedite implementation of Rajiv Awas Yojana,Jharkhand Governor Syed Ahmad told the concerned officials in ranchi today.

He was addressing them in a state level meeting of the Swikriti and Nigrani Samiti inside the Raj Bhawan.

Rajiv Awas Yojana is meant to provide houses for slum dwellers under JNNURM on the lines of Indira Awas Yojana for rural poor.

A press release issued by public relations department in Hindi said as follows:

माननीय राज्यपाल डा0 सैयद अहमद ने निदेष दिया है कि राजीव आवास योजना का कार्यान्वयन तीव्र गति से करें ताकि ज्यादा-से-ज्यादा गरीब लाभानिवत हो सकें। उन्होंने कहा कि यह योजना गरीबोंनि:सहायों से सम्बद्ध है, अत: इसके कार्यान्वयन से जुड़े पदाधिकारियों को पूरी गंभीरता से कार्य करने की जरूरत है। उन्होंने इस निमिŸा सम्बद्ध पदाधिकारियों को अतिषीघ्र जमीन चिनिहत कर आग्रेतर कार्रवार्इ करने निदेष दिया, ताकि राजीव आवास योजना का निर्माण शीघ्रता से हो सके। माननीय राज्यपाल महोदय आज राजभवन में आहूत राज्यस्तरीय स्वीÑति एवं निगरानी समिति की बैठक को सम्बेाधित कर रहे थे।

बैठक में विधानसभा अध्यक्ष श्री सी.पी. सिंह, विधानसभा सदस्य श्री रघुवर दास एवं श्री बन्ना गुप्ता, राज्यपाल के परामर्षी श्री मधुकर गुप्ता एवं श्री आनन्द शंकर, मुख्य सचिव श्री आर.एस. शर्मा, विकास आयुक्त श्री ए.के. सरकार, अपर मुख्य सचिव, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग श्री सुधीर प्रसाद, राज्यपाल के प्रधान सचिव श्री एन.एन. सिन्हा सहित कर्इ वरिष्ठ पदाधिकारीगण, नगर निगम के प्रतिनिधिगण उपसिथत थे। विदित हो कि नगर निगम क्षेत्र के स्लम के विकास हेतु भारत सरकार द्वारा राज्य के चार जिले यथा- रांची, धनबाद, जमषेदपुर एवं चास का शहरी गरीबों के लिए आवास निर्माणार्थ चयन किया गया है।

राज्यपाल महोदय ने इस अवसर पर कहा कि मैं चाहता हूँ कि जो लोग गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन कर रहे हैं, उनके जीवन-स्तर में सुधार हों। इस निमिŸा स्लम क्षेत्र का विकास और शहरी गरीबों के लिए आवास निर्माण हेतु गंभीरतापूर्वक कार्य करने की आवष्यकता है। उन्होंने बैठक में यह भी कहा कि वर्Ÿामान में राजीव आवास योजना अन्तर्गत जितने क्षेत्रफल का मकान लाभुकों को सुलभ कराने का प्रावधान है, वह अवष्य दें। लेकिन भविष्य में मकान के क्षेत्रफल में वृद्धि करने पर विचार किया जाय।

उन्होंने कहा कि उक्त मकानघर में सभी बुनियादी सुविधाएँ हों और मकान निर्माण करते समय मानवीय भावना के तहत कुछ जरूरी सुविधाएँ यथा-रैक वगैरह के निर्माण करने की ओर भी ध्यान दिया जाय। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि भविष्य में अवैध स्लम न हों, इस हेतु एक कट-आफ डेट निर्धारित कर लें तथा कट-आफ डेट के पूर्व के स्लम के सभी लोगों को आवास सुलभ कराये। अवैध स्लम न हो, यह नगर निगम की जिम्मेदारी होगी।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री सी.पी. सिंह ने कहा कि मकान की गुणवŸाा से कोर्इ समझौता नहीं होनी चाहिये। उन्होंने राँची के कुछ स्थानों, जहाँ सभी लोग गरीबी रेखा से नीचे तबके के लोग हैं, उनके सन्दर्भ में जानकारी दी कि इनके लिए तीव्रता से आवास निर्माण करने की जरूरत है। बैठक में श्री रघुवर दास एवं श्री बन्ना गुप्ता ने भी गरीबी रेखा से नीचे रहनेवाले लोगों को शीघ्र ही बेहतर आवास सुलभ कराने का आग्रह किया।

विदित हो कि राजीव आवास योजनान्तर्गत 8562.362 लाख रूपये के परियोजना लागत पर राँची नगर निगम परिक्षेत्राधीन 5 स्लम क्षेत्र यथा- महुआटोली, बड़ाघाघरा, उराँवटोली बरियातू बस्ती (अल्पसंख्यक बाहुल्य), नामकूम बस्ती एवं लोहराकोचा को विकसित करने के साथ-साथ 1565 शहरी गरीबों को उनके भूखण्ड पर आवासीय र्इकार्इ तथा आधारभूत संरचना निर्माण किया जाना प्रस्तावित है।

चास नगर परिषद परिक्षेत्राधीन इस योजना अंतर्गत 2072 लाख रू0 की परियोजना लागत पर 6 स्लम क्षेत्र यथा- मांझीटोला-1, गोपटोला, अपरटोला, मांझीटोला-2, टुमुकटांड एवं माझीडीह का विकास के साथ 185 शहरी गरीबों के आवासीय इकार्इ का निर्माण, 70 आवासीय इकार्इ का पुनरूत्थान एवं 8 ट्रानिजट आवास निर्माण सहित अन्य आधारभूत संरचना का निर्माण प्रस्तावित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *