Activists to storm Ranchi

Stories
Albert Ekka chowk,Ranchi’s
Albert Ekka chowk,Ranchi

Artists,writers and activists are going to gather at Albert Ekka chowk,Ranchi’s city centre on November 28 morning.Reason?

They plan to hold a meeting on a burning topic-‘Expression For Justice.’

Among the prominent outfits slated to take part in it are:Jharkhand Human Rights Movement,Jharkhand’s Indegenous People’s Forum,Jharkhand Alliance For Democratic Movement,Adivasi Yuva Chetna Manch,Jharkhand Janadhikar Manch,Pragatisheel Lekhak Sangh,Janwadi Lekhak Sangh,Jan Sanskriti Manch,Indegenous People’s Theatre’s Association,AISF,AISA,DYFI and AIPWA.

Their move is aimed at protesting against the arrest and denial of bail to woman activist Dayamani Barla.

A joint press release issued by them states as follows:

इधर देखा जा रहा है कि राजसत्ता लगातार असहिष्णु होती जा रही है । उसे विरोध के स्वर पसन्द नहीं आ रहे । ‘अभिव्यä किी आजादी भारतीय नागरिकों का मूलभूत अधिकार है किन्तु इसका स्पेस लगातार सिकुड़ता दिख रहा है । बंगाल में मुख्यमंत्री से सवाल पूछने और कार्टून बनाने पर जेल भेज दिया जा रहा है। फेसबुक पर टिप्पणी करने पर मुम्बर्इ पुलिस गिरफ्तार कर ले रही है । यहाँ आजीविका, भूख से सुरक्षा के सवाल खड़ा करने पर दयामनी बारला जेल में हैं । ‘जीवन के अधिकार में आजीविका और भूख से सुरक्षा के अधिकार शामिल हैं । नगड़ी के किसान अपने उसी संविधान प्रदत्त अधिकार की रक्षा की लड़ार्इ लड़ रहे हैं । दयामनी बारला की गलती सिर्फ इतनी है कि वे उन किसानों के वाजिब सवाल के साथ खड़ी हैं । उनकी कैद अभिव्यä किी आजादी पर चोट है । यह ‘जन के लिए खतरनाक है और ‘जनतांत्रिक मूल्यों के लिए भी । दरअसल फासीवाद, क्रोनी कैप्टलिज्म की बाँह थामे दबे पाँव जनतंत्र के खोल में दाखिल होना चाह रहा है ।
यही सही अवसर है कि हम विरोध में खड़े हों । सवाल सिर्फ दयामनी बारला का नहीं , हो सकता है कल उनकी जगह पर आप हों । आज दयामनी के साथ आप खड़े नहीं होंगे तो कल आप भी अपने को अकेला पायेंगे ।
अत: 28 नवम्बर 2012 को प्रात: 9 बजे अल्बर्ट एक्का चौक पर ‘न्याय के लिए अभिव्यäि के अभियान में शामिल हों । आपको बस अपनी या अपने प्रिय कवि की प्रतिकार की चन्द पंäयिें या, चित्रकारी के हुनर या मात्र अपने हस्ताक्षर के साथ उपसिथत होना है ताकि बड़े कैनवास पर आप भी अपना प्रतिकार दर्ज कर सकें ।
निवेदक
राँची कालेज एवं स्नातकोŸार विभाग शिक्षक संघ, झारखण्ड हयूमन रार्इटस मूवमेंट, झारखण्ड इंडिजिनस पीपुल्स फोरम, झारखण्डी एलायंस आफ डेमोक्रेटिक मूवमेंट, आदिवासी युवा चेतना मंच, झारखण्ड जनाधिकार मंच, प्रगतिशील लेखक संघ, जनवादी लेखक संघ, जन संस्कृति मंच, इंडियन पीपुल्स थियेटर एसोसिएसन (इप्टा),
एŒआर्इŒएसŒएफ, आइसा, डीåवार्इåएफåआर्इå एवं एपवा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *