सड़क किनारे से वन विभाग ने काटे 7.50 करोड़ के पेड़

Jharkhand News Stories

* अधिसंख्य लकड़ियां सड़क निर्माण के दौरान काटी गयीं
रांची : वन विकास निगम ने अप्रैल 2011 से मार्च 2012 तक लकड़ी बेच कर करीब साढ़े सात करोड़ रुपये की कमाई की है. इस बार ज्यादातर कमाई सड़क किनारे काटी गयी लकड़ियों को बेच कर हुई है.

निगम के गोदाम में इस बार कुल 4506 टुकड़े लाये गये थे. सबसे अधिक लकड़ी हजारीबाग जिले में काटी गयी थी. वहां काटे गये वनों से निगम के गोदाम को 2960 घन मीटर टिंबर तथा 4331 बल्ली की लकड़ी प्राप्त हुई थी. पूरे राज्य में करीब 7957 घन मीटर टिंबर की लकड़ी व 14360 बल्ली निगम को मिले थे. वहीं 15910 घन मीटर जलावन की लकड़ी मिली थी. इसे निगम ने नीलाम किया था.

* सबसे अधिक जलावन लकड़ी
निगम के अधिकारियों का कहना है कि सड़क किनारे जो पेड़ों की कटाई हुई थी, उसमें सबसे ज्यादा जलावन की लकड़ी निकली. सड़क किनारे कीमती पेड़ लगाये नहीं जाते हैं. इस कारण निगम को ज्यादतर जलावन की लकड़ी मिली.

– डिपो को काटे गये पेड़ों की नीलामी कराने के बाद उसकी बिक्री करना है. 2010 तक निगम ने पेड़ों की बिक्री से करीब आठ करोड़ रुपये तक की कमाई की थी. इस साल सात करोड़ से अधिक की कमाई हो चुकी है. अगले दो-तीन महीन में और एक करोड़ की बिक्री का अनुमान है. डिपो में ऑक्शन की तिथि तय होती है.
बीआर रल्लन, प्रबंध निदेशक
वन विकास निगम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *