15.100 किमी0 की फोरलेन सेवा शुरू

Press Release

मुख्यमंत्री श्री अर्जुन  मुण्डा ने कहा कि किसी भी राज्य के विकास को वहाँ की सड़के प्रतिबिबिंत करती हैं। उन्नत सड़कों से व्यापार,वाणिज्य की उन्नति होती है एवं विकास कार्यो को गति मिलती है। राज्य सरकार सभी जिला मुख्यालयों को राष्ट्रीय उच्च पथों से जोड़ने के लिए प्रयासरत है। सड़कों के विकास से —षि उत्पादों को बाजार की उपलब्धता सुलभ कराने सहित औधोगिक उत्पादों को अंर्तराष्ट्रीय बाजार तक पहुँचाने में आसानी होगी। कांड्रा आदित्यपुर पथ के द्वारा राँची डेढ़ घंटे में एवं खड़गपुर अढ़ार्इ घंटे में ही पहुँचा जा सकेगा। इससे संबंधित शेष निर्माण कार्य भी शीघ्र पूरे किये जाने के निदेष दिये गये हैं। टाटानगर रेलवे स्टेषन से राष्ट्रीय उच्च पथ को जोड़ने के लिए फ्लार्इ ओवर का निर्माण किया जायेगा। इससे लौहनगरी जमषेदपुर में आवागमन की सहुलियत बढ़ेगी साथ ही आर्थिक गतिविधियों को भी नये आयाम मिलेंगे। आदित्यपुर कांड्रा रोड से जमषेदपुर को पोर्ट लिंकेज मिलेगा एवं निर्यातकों हलिदया एवं पारादिप बंदरगाह का सीधा लिंकेज प्राप्त हो सकेगा।

उन्होंने कहा कि आदित्यपुर कांड्रा रोड बनाने वाली एजेंसी को अगले 17 वर्षो तक इस पथ का रख-रखाव भी करना है। इसलिए यह रोड अगले 17 वर्षो तक एक समान रूप से मेंटेन रहेगा। मुख्यमंत्री आज आदित्यपुर में खरकर्इ पुल के पास जयप्रकाष उधान मैदान में आदित्यपुर – कांड्रा पथ का लोकापर्ण कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने 3000 किमीŒ सड़क निर्माण के कार्य को लिया है। इसके अंतर्गत पलामू से राँची को जोड़ने वाले सड़क,साहेबगंज से तेजपुर, आसाम को जोड़ने वाला हार्इवे एवं सभी जिला मुख्यालओं से राष्ट्रीय उच्च पथों को जोड़ने वाली सड़के शामिल हैं। वर्ष 2017 तक राज्य सरकार राज्य के सभी ग्राम-पंचायतों के गाँवों को सड़क सुविधा एवं बिजली मुहैया करायेगी। जिन गाँवों में बिजली की पहुँच नहीं होगी उन गाँवों को राज्य सरकार सौर ऊर्जा से रौषन करेगी।

इसके लिए 300 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट राज्य सरकार लगायेगी। पषिचती सिंहभूम जिलें में भी 100 मेगावाट सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित किया जा रहा है। राज्य सरकार ने खेतों को सिंचार्इ सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 6000 करोड़ रूŒ की सिंचार्इ परियोजनाओं की स्वी—ति दी है। इन सिंचार्इ परियोजनाओं से सिंचार्इ सुविधाओं के साथ – साथ स्थानीय निवासियों को स्वच्छ पेयजल की सुविधा भी मिलेंगी।

उन्होंने कहा कि झारखण्ड प्रदेष पूरे देष में दलहन उत्पादन में अव्वल रहा है। आगामी 15 जनवरी को महामहिम राष्ट्रपति महोदय इसके लिए प्रदेष को पुरस्—त करेंगे। आर्थिक उन्नति में —षि उत्पादों की मार्केटिंग की भूमिका को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य के किसानों के उत्पादों को बेहतर मूल्य दिलाने में भी सड़के कारगर होंगी। उन्होंने कहा कि राज्य में बिजली की संचरण प्रणाली को बेहतर बनाया जा रहा है ताकि घरेलू, वाणिजियक एवं औधोगिक उपभोक्ताओं को निर्बाध क्वालिटी पावर उपलब्ध हो सके एवं आर्थिक गतिविधियों को नये आयाम मिल सके। आर्थिक गतिविधियों में बढ़ोŸारी से राज्य के राजस्व में भी वृद्धि होती है एवं प्राप्त राजस्व का उपयोग सरकार अधिसंरचनात्मक विकास में करती है।

आदित्यपुर-कांड्रा सड़क के जरिए 15.100 किमीŒ की दूरी में फोरलेन आवागमन की सुविधा सुलभ हुर्इ है। इस परियोजना की लागत 185.00 करोड़ रूŒ हैं। इस पथ का निर्माण झारखण्ड त्वरित पथ विकास कंपनी लिŒ के द्वारा किया गया है। इस पथ के निर्माण से आदित्यपुर -गम्हरिया -कांड्रा क्षेत्र के नियोजित विकास को नये आयाम प्राप्त होंगे।

उक्त अवसर पर माननीय परिवहन एवं आदिवासी कल्याण मंत्री श्री चम्पर्इ सोरेन,माननीय विधायक श्री विधुत वरण महतो, माननीय विधायक श्री बड़क कुँवर गगरार्इ प्रधान सचिव, पथ निर्माण विभाग, श्रीमती राजबाला वर्मा सहित बड़ी संख्या में गणमान्य व्यकित उपसिथत थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *