युवा एवं क्षमता विकास मेला-सह-प्रदर्शनी

Press Release

Arjun Munda

मुख्यमंत्री श्री अर्जुन मुण्डा ने आज मोरहाबादी मैदान में आयोजित त्रिदिवसीय ”युवा एवं क्षमता विकास मेला-सह-प्रदर्शनी, 2012 के स्टालों का निरीक्षण करते हुए राज्य के सूदूर ग्रामीण क्षेत्रों से आए युवा पशुपालकों मत्स्य-मित्रों, उधमियों एवं स्वयं सहायता समूहों से जुड़े लोगों को प्रोत्साहित किया। उनके साथ Ñषि मंत्री श्री सत्यानन्द झा बाटुल भी थे। उन्होंने नीमडीह, सरायकेला से आर्इ ”सबर पार्टी की सांस्Ñतिक प्रस्तुति को देखा। अजित प्रमाणिक की छऊ-पार्टी ने छऊ नृत्य के माध्यम से आदिम जनजाति ‘सबर के जीवन दर्षन को प्रस्तुत किया। छऊ-नृत्य में ”सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ताँ हमारा की प्रस्तुति को मुख्यमंत्री सहित सभी गणमान्य व्यकितयों ने सराहा। ‘सबर जनजाति द्वारा घास से बनार्इ कलाÑतियां एवं हस्तषिल्प मेले में प्रदर्षित हैं, जिन्हें नर्इ दिल्ली के भारतीय अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार मेला सहित कर्इ अन्य स्थानों पर सराहना मिली है।

पशुपालन विभाग के स्टाल पर संयुक्त निदेषक आर0के0तिर्की ने मुख्यमंत्री को इमू ब्रीडिंग फार्म के बारे में जानकारी दी। राँची जिले के रातू प्रखण्ड के कनौज गाँव में राज्य का पहला इमू ब्रीडिंग फार्म खोला गया है। मुख्यमंत्री जी ने इंटीग्रेटेड फार्मिंग को प्रोत्साहित किए जाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि एक साथ खेती, शूकर पालन, कुक्कुट पालन, मछली पालन समेकित रूप से किए जाने पर Ñषक की आय में इक्कीस प्रतिषत की वृद्धि सम्भावित हो सकती है।

मुख्यमंत्री सहकारी लाह-क्रय विक्रय केन्द्र के कार्यकलापों से भी अवगत हुए। उन्होंने डेयरी फार्म यांत्रिकरण के पहलूओं के विस्तार की जरूरत बतार्इ। उन्होंने वेजफेड के स्टाल का भी अवलोकन किया। झारखण्ड राज्य आदिवासी विकास निगम के स्टाल पर प्रधान सचिव श्री विष्णु कुमार ने मुख्यमंत्री को निगम के कार्यकलापों से अवगत कराया। उन्होंने जसीडीह देवघर के डेयरी उधमी उमेष कुमार का उत्साहवर्धन किया। उमेष जसीडीह में 5000 लीटर प्रतिदिन क्षमता का डेयरी प्लांट लगा रहे हैं।
मत्स्य विभाग के स्टाल का निरीक्षण करते हुए उन्होंने युवा मत्स्य मित्रों की हौसलाअफजार्इ की एवं निदेषक मत्स्य श्री राजीव कुमार से मछली पालन के क्षेत्र में किए जा रहे नए प्रयासों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि विकसित आधुनिक मछलीपालन की तकनीकों एवं पद्धतियों को किसानों के बीच लाना एक चुनौती है। मत्स्य मित्र राज्य की आर्थिक प्रगति के ध्वजवाहक बनें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *