पलामू में 10 हजार एकड़ भूमि पर औधोगिक प्रांगण,मुख्यमंत्री

Press Release

Industrialisation In Jharkhandउधोग विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने पलामू में 10 हजार एकड़ भूमि पर औधोगिक प्रांगण शीघ्र स्थापित करने की कार्रवार्इ का निदेश अधिकारियों को दिया। उन्होंने कृषि उधम विकास को एक बड़ा उधोग मानते हुए कहा कि क्षेत्रीय संभावना आधारित उधमों की स्थापना से रोजगार और स्वरोजगार को बल मिलता है। राज्य औधोगिक परिक्षेत्र के आर्थिक विकास से वाणिज्यकर में वृद्धि के आकलन के क्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि औधोगिक विकास का एक प्रमुख आउटकम राजस्व संसाधन भी है।

दूसरा महत्वपूर्ण पक्ष मानव संसाधन सृजन, प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रोजगारस्वरोजगार और उसके माध्यम से स्वावलम्बन लक्ष्य है। पिछले दिनों इस संदर्भ में जो वृद्धि हुर्इ है, विभाग उसको अपने वेबसार्इट में डालें। विभाग द्वारा यह बतलाये जाने पर कि मेगा उधमों में लगभग 13 हजार और एम0एस0एम0र्इ0 में 1.39 लाख प्रत्यक्ष रोजगार तथा सहायक ;ंदबपसपंतलद्ध उधोगों में लगभग इसके तिगुणा रोजगार प्राप्त हुआ है, उन्होंने इसके डोक्युमेन्टेशन पर बल दिया। बैठक में मुख्य सचिव द्वारा विभिन्न प्राधिकारों के तहत भूमि उपयोग के विचलन पर चिंता जाहिर करने पर मुख्यमंत्री ने इस आशय की नीति पर काम करने का निदेश दिया। उन्होंने बरही के 375 एकड़ भूमि के उपयोग के संदर्भ में भी उधोग सचिव को निदेश दिया। मुख्यमंत्री ने राज्य में इस प्रकार की सारी उपलब्ध भूमि के विस्तृत विवरण के साथ शीघ्र नीति निर्धारण का निदेश दिया। उन्होंने उधमिता विकास में डी0आर्इ0सी0 की भूमिका पर चिंता प्रकट की ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *