कृषि जैसे प्राथमिक क्षेत्र को अछूता नही छोड़ा :मुख्यमंत्री

Press Release

agriculture pictures, agriculture definition, farming, agriculture articles, agriculture career, agriculture jobs, agriculture history, agriculture dictionary, agriculture, Indian agriculture

मुख्यमंत्री श्री अर्जुन मुण्डा ने कहा कि झारखण्ड बैंको के लिए सम्भावनाओं का प्रदेष है। राज्य के विकास मेंं बैंको की भूमिका को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि उत्पादन के साथ-साथ बाजार और रोजगार सृजन के बारे में भी सोचना चाहिए। माइक्रो लेवल पर माँग एवं पूर्ति के अवयवों को ध्यान में रखते हुए बैंकों को राज्य के हरेक व्यकित तक पहुँचना चाहिए। उन्होंने साख-जमा अनुपात में वृद्धि की आवष्यकता को रेखांकित करते हुए कहा कि इसके लिए बैंकर्स एवं संबंधित सरकारी पदाधिकारी पूरे समन्वय एवं तत्परता के साथ कार्य करें। मुख्यमंत्री आज स्थानीय होटल कैपिटल हिल में राज्य स्तरीय बैंकर्स समन्वय समिति की 41वीं बैठक को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने अपने सम्बोधन में कहा कि खनिज संपदा का राज्य होने के कारण इस राज्य में औधोगिक विकास की संभावनाएँ हैं। परन्तु कृषि जैसे प्राथमिक क्षेत्र को अछूता नही छोड़ा जाना चाहिए। किसान क्रेडिट कार्ड के लक्ष्य को पूरा किए जाने की आवष्यकता पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि स्वयं सहायता समूहों का वित्त पोषण एवं उन्हें क्रियाषील बनाना सभी बैंकों की प्राथमिकता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि औपचारिकताओं के कारण शैक्षणिक ऋण के मामलों की कर्इ षिकायतें आती है। इसका ध्यान बैंकों को रखना चाहिए ताकि मानव संसाधनों का बेहतर उपयोग सुनिषिचत किया जा सके। उन्होंने कहा कि छात्रों को प्रोत्साहित किया जाना राष्ट्रहित की बात है अतएव हमें मानव संसाधन प्रबंधन एवं इस हेतु शैक्षणिक ऋण की उपलब्धता सुनिषिचत करना आवष्यक है। ग्रामीण परिवेष की बैंकिग सुविधाओं में विस्तार की जरूरत को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि यहाँ कि औधोगिक सिथति एवं स्थानीय विषेषताओं को ध्यान में रखकर बैंकिग की सुविधा लोगों तक पहुँचे, इसी में सार्थकता है।

इलाहाबाद बैंक की अध्यक्ष-सह-प्रबंधक श्रीमती शुभलक्ष्मी पानसे ने अपने संबोधन में राज्यस्तरीय बैंकर्स समन्वय समिति के कार्यकलापों एवं माइक्रो-फाइनासिंग की कार्ययोजनाओं पर प्रकाष डाला। इस अवसर पर मुख्य सचिव श्री एस0के0चौधरी, विकास आयुक्त श्री देवाषीष गुप्त, प्रधान सचिव राजस्व एवं भूमि सुधार श्री एन0एन0पाण्डेय, प्रधान सचिव कृषि एवं गन्ना विकास श्री ए0के0सिंह, सचिव उधोग विभाग श्री ए0पी0सिंह, निदेषक कृषि श्री के0के0सोन, उधोग निदेषक श्रीमती वंदना दादेल सहित बड़ी संख्या में बैंको के उच्चाधिकारी एवं गणमान्य व्यकित उपसिथत थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *